शुक्रवार, 12 अगस्त 2016

👉 आरोप


🔴 एक युगल को शादी के 11 साल बाद एक लड़का हुआ। उनका लड़का उनकी आँखों का तारा था।

🔵 एक सुबह, आदमी को काम पर जाने के लिए देरी हो रही थी जाते जाते उसने कमरे में एक दवाई की बोतल खुली देखी, उसने अपनी पत्नी से उस बोतल को ढक्कन लगा कर अलमारी में रखने को कहा, लड़के की मम्मी रसोई घर में तल्लिन थी, वो ये बात पूरी तरह से भूल गयी थी।

🔴 लड़का जो तक़रीबन 2 साल का था कमरे में खेलते-खेलते वो बोतल देखी और उस बोतल की ओर गया, उसने उसमे की पूरी दवाई पी ली। उस दवाई की ज्यादा मात्रा छोटे बच्चो को जहरीली हो सकती थी।

🔵 दवाई पीने के बाद वह लड़का बेहोश हो गया, उसकी मम्मी उसे जल्द से जल्द अस्पताल ले गयी जहाँ उसकी मौत हो गयी। उसकी मम्मी पूरी तरह से हैरान हो गयी थी, वह भयभीत हो गयी थी, की कैसे वो अब अपने पति का सामना करेंगी?

🔴 जब लड़के के परेशान पिता अस्पताल में आये तो उन्होंने अपने बेटे को मृत पाया और अपनी पत्नी और देखते हुए सिर्फ चार शब्द कहे

आपको क्या लगता है कौन से होंगे वो चार शब्द?

🔵 पति ने सिर्फ इतना ही कहा- “ I Love You Darling”.

🔴 उसके पति का अनअपेक्षित व्यवहार आश्चर्यचकित करने वाला था, उसका लड़का मर चूका था, वो उसे कभी वापिस नहीं आ सकता था, और वो अपनी पत्नी में भी कोई कसूर नहीं ढूंढ रहा था क्योंकि वो सोच रहा था की अगर उसने खुद वह बोतल उठाके बाजू में रख दी होती तो आज उसके साथ यह सब न होता।

🔵 वो किसी पर भी आरोप नहीं लगा रहा था, क्योंकि उसकी पत्नी ने भी अपना एकलौता बेटा खो दिया था. उस समय उसे सिर्फ अपने पति से सहानुभूति और दिलासा चाहिये थी. और यही उसके पति ने उस समय उसे दिया।

🔴 मित्रों कभी-कभी हम इसी में समय व्यर्थ कर देते है की परिस्थिती के लिए कौन जिम्मेदार है या कौन आरोपी है, ये सब हमारे आपसी रिश्तों  में होता है, जहाँ काम करते है वहाँ या जिन लोगो को हम जानते है उन सभी के साथ होता है, और परिस्थिती के आवेश में आकर हम अपने रिश्तों को भूल जाते है और एक दुसरे का सहारा बनने के बजाये एक दुसरे पर आरोप लगाते है।

🔵 कुछ भी हो जाये, हम उस व्यक्ति को कभी भी नहीं भूल सकते जिसे हम प्रेम करते है, इसीलिए जीवन में जो आसान है उसे प्रेम करो।

🔴 आपके पास अभी जो है उसे जमा करो, और अपनी तकलीफों को विचार कर-कर के बढ़ाने के बजाये उन्हें भूल जाओ. उन सभी चीजो का सामना करो जो आपको अभी मुश्किल लगती है या जिनसे आपको डर लगता है सामना करने के बाद आप देखोंगे के वो चीजे उतनी मुश्किल नहीं है जितना की आप पहले सोच रहे थे। हमें परिस्थिती को समझकर ही लोगो के साथ व्यवहार करना चाहिये, और कठिन परिस्थितियों में उनका हमदर्द बनना चाहिये।

7 टिप्‍पणियां:

👉 हमारा युग निर्माण सत्संकल्प (भाग 46)

🌹  दूसरों के साथ वह व्यवहार न करेंगे, जो हमें अपने लिए पसंद नहीं। 🔴 हम चाहते हैं कि दूसरे लोग हमारे साथ सज्जनता का उदार और मधुर व्यवहा...